Ashtavakra Gita / अष्टावक्र गीता


अष्टावक्र गीता ज्ञान योग की सबसे महत्त्वपूर्ण पुस्तकों में से एक है जिसकी प्रशंसा श्री रामकृष्ण परमहंस और श्री रमण महर्षि ने भी की है। जैसे गीता में श्रीकृष्ण और अर्जुन का संवाद है वैसे ही अष्टावक्र गीता के श्रोता श्री जनक और वक्ता श्री अष्टावक्र जी हैं। गीता में कर्म, ज्ञान और भक्ति तीनों का वर्णन हुआ है पर अष्टावक्र गीता में केवल ज्ञान योग का ही विवेचन हुआ है। Ashtavakra Gita is one of the most important books on path of knowledge, which is even praised by Shri Ramkrishna Paramahansa and Sri Raman Maharishi alike. Just as the Gita has the dialogue of Sri Krishna and Arjun, so in the same way, Ashtavakra Gita has Ashtavakra as the speaker and king Janaka as the listener. In the Gita, the three ways of enlightenment (action, knowledge and devotion) are described whereas in Ashtavakra gita, only the path of  knowledge is discussed.
अष्टावक्र के नाना ऋषि उद्दालक का छान्दोग्य उपनिषद् में एक ब्रह्मज्ञानी के रूप में उल्लेख किया गया है। वेदांत के सबसे महत्त्वपूर्ण महावाक्य तत्त्वमसि का उपदेश इनके नाना उद्दालक के द्वारा इनके मामा श्वेतकेतु को दिया गया है जो अष्टावक्र के समवयस्क हैं, अतः अष्टावक्र उपनिषद् कालीन ऋषि हैं। The maternal grandfather of Ashtavakra, the sage Uddalaka has been mentioned as an enlightened man in Chhadogyya Upanishad. The most important mahavyakya (the final statement) in the philosophy of Vedanta, 'You are That", has been given by him to his son Shvetaketu. Shvetaketu is maternal uncle of Ashtavakra, therefore, Ashtavakra and was of same age. This proves that Ashtavakra was a sage of Upanishadic times.
वाल्मीकि रामायण के युद्धकाण्डमें अष्टावक्र ऋषि का बड़े आदर से उल्लेख हुआ है।रावण-वध के पश्चात्, देवराज इंद्र के साथ राजा दशरथ अपने प्रिय पुत्र श्रीराम से मिलने आते हैं, उस समय वे श्रीराम से कहते हैं–“हे महात्मा राम तुम्हारे जैसे सुपुत्र के द्वारा मैं वैसे ही बचा लिया गया हूँ जैसे कि धर्मात्मा कहोड ब्राह्मण अपने पुत्र अष्टावक्र के द्वारा।” In Valmiki Ramayana, during the time of battle in Yuddha Kanda, sage Ashtavakra has been mentioned with great respect. After the killing of Ravana, King Dashrath along with the king of demi-gods Indra comes to meet his beloved son Rama, at that time he says to Rama,"O great Ram, I have been saved you as righteous Kahoda Brahmin was saved by his son Ashtavakra."
महाभारत के वन पर्व में लोमश ऋषि युधिष्ठिर को अष्टावक्र की कथा सुनाते हैं। Sage Lomash recites the story of Ashtavakra to Yudhishtira in the Mahabharata's Vana Parva.
प्रथम अध्याय First Chapter
द्वितीय अध्याय Second Chapter
तृतीय अध्याय Third Chapter
चतुर्थ अध्याय Fourth Chapter
पंचम अध्याय
Fifth Chapter
षष्ठ अध्याय
Sixth chapter
सप्तम अध्याय
Seventh Chapter
अष्टम अध्याय
Eighth Chapter
नवम अध्याय
Ninth Chapter
दशम अध्याय
Tenth Chapter
एकादश अध्याय Eleventh Chapter
द्वादश अध्याय Twelfth Chapter
त्रयोदश अध्याय Thirteenth Chapter
चतुर्दश अध्याय Fourteenth Chapter
पंचदश अध्याय Fifteenth Chapter
षोडश अध्याय Sixteenth Chapter
सप्तदश अध्याय
Seventeenth Chapter
अष्टादश अध्याय
Eighteenth Chapter
नवदश अध्याय
Nineteenth Chapter
विंश अध्याय
Twentieth Chapter