VISITORS

केहि विधि मोर बने रघुराई



 ।।  राम श्रीराम श्रीराम श्रीराम  ।।



केहि विधि मोर बने रघुराई ।

साधनहीन दीन मैं स्वामी जानत नहि चतुराई ।।


साधनयुत  के हर कोई गाहक कोटिक मिलैं  सहाई 

मोरे एक तुम्ही रघुनायक जानौं सब न झुठाई ।।


असहाय सहायक राम प्रभू तुम रीति सदा चलि आई 

संतोष की बने प्रभु तोहिं बनाये और नहीं को उपाई ।।



_______________________________________________________

 

             

                            

 

Comments