VISITORS

जय राम रामचन्द्र रामभद्र

।।  राम श्रीराम श्रीराम श्रीराम  



जय राम रामचन्द्र रामभद्र ।

जय सीतारमन सर्वकामप्रद ।।



जय गुणधाम सहजकृपाल


जय दीनबन्धु शरनागतपाल ।।



जय आनन्दसिंधु सुखधाम


जय सुखराशि महाछविधाम ।।



जय करुनाकर सोचविमोचन


जय रघुवंश रवी दुखमोचन ।।



जय मायापति  पंकजलोचन


जानकीजीवन प्रिय त्रिलोचन ।।

 



जय विद्यानिधि कारुण्यरूप छवि परम अनुपम अनूप ।


सच्चिदानन्द आनंदकंद जय जय जय प्रभु विश्वरूप ।। 







______________________________________________






Comments