परिचय:सांवराद

स्थिति:

ग्राम पंचायत साँवराद नागौर जिले के लाडनूं तहसील में स्थित है ग्राम पंचायत सांवराद जिला मुख्यालय नागौर से 107 किलोमीटर पूर्व में तथा तहसील मुख्यालय लाडनूं से 22 किलोमीटर दक्षिण में स्थित है|

नामकरण व स्थापना:

गाँव की स्थापना गाँव के बुजुर्गो व् गाँव में बनी राव कुंपा की छतरी के अनुसार सन् 1190 के पूर्व की है|गाँव साँवराद आस पास के गाँवो के धोकल सिंह, जो पोलो विश्व चैंपियन महाराज मान सिंह द्वीतीय जयपुर दरबार के गुरु थे, उन्ही के प्रशिक्षण से महाराज नें विश्व चैंपियन का खिताब जीता| जिसकी याद में जयपुर में पोलो विक्ट्री स्थित है| प्राचीन मान्यता के अनुसार इतिहास पुरुष राव कुंपा साँवराद में रणखेत हुए थे| जिनकी याद में गाँव की चौपाल में एक छतरी बनी हुई है| आस पास के गाँवो सहित साँवराद में भी लगभग 1900 ईस्वी में प्लेग नामक बिमारी से गाँव उजड़ गया था तब गाँव वालो ने खेतो में शरण लेकर जान बचाई|


जनसँख्या: 

पंचायत में कुल चार गाँव आते है साँवराद, बिठुडा, दताऊ और मिंडासरी| पंचायत की कुल राजस्व भूमि 33000 बीघा है| सन् 2011 की जनगणना के अनुसार पंचायत की कुल जनसख्या 5531 है| पंचायत में कुल 1500 घर है| जिनमे से लगभग 35० घर साँवराद में, 500 घर बिठुडा में, 350 घर दताऊ में व 300 घर मिंडासरी में है| पंचायत में कुल 204 BPL परिवार है|

संस्कृति:

ग्राम में मुख्य रूप से हिन्दू धर्म के सभी त्यौहार आपसी भाईचारे व् सौहार्द तथा उल्लास के साथ मनाये जाते है| जलझुलनी एकादशी, दशहरा, कृष्ण जन्माष्टमी के दिन सम्पूर्ण गाँव प्राचीन ठाकुर जी के मंदिर में दर्शन के लिए आते है| गाँव का मुख्य आकर्षण गणगौर की सवारी है|

ग्राम पंचायत स्तर पर लिए गए मुख्य निर्णय:

ग्राम पंचायत में गाँव साँवराद में सभी जाती के लोगो ने मिलकर निर्णय ले रखा है की गाँव में लड़की की शादी में किसी भी प्रकार का जिमनवार नहीं करेंगे|

पंचायत की मूलभूत सुविधाएँ:

पंचायत के सभी गाँवो बिजली कनेक्शन उपलब्ध है| साँवराद में लगभग 3-4 घरो में, दताऊ में 10, बिठुडा में 25 तथा मीडासरी में 20 घरो में बिजली के कनेक्शन नहीं है| पंचायत में बिजली के अभाव में पावर बैकअप के रूप में मुख्यतः इनवर्टर व् सौर उर्जा का 10-15 घरो में उपयोग किया जाता है| पंचायत में सर्दियों में 5 घंटे, गर्मियों में 7-9 घंटे बिजली कटौती रहती है पंचायत के नजदीकी बैंक लाडनूं में 22 किलोमीटर दूर है| पंचायत में उचित मुल्य की दुकान है| पंचायत के गाँव दताऊ में 2 डेयरी केन्द्र है| जिनमे कृषि डेयरी का दुग्ध संकलन किया जाता है| पंचायत में कोई बिजली घर नहीं है इसलिये नजदीकी बिजली घर बाकलिया से आपूर्ति होती है गाँव में परिवहन के मुख्य साधन बस व जीप है|