Ajj khujaan ki lai gaon ki yaad aane chha.(RAVINDRA SINGH GUSAIN)

वो सेडयाखाल की उकाल वो उन्धारी मुख की उन्धार

कहाँ भूल पाएंगे वो गुजरा जमाना

वो चोक्ल्या का भयाल ! वो पलिस्यार का सैण!

वो चुन्ची का रोल ! वो कुक्नल की ढया!

वो बाड़ी का माछा! वो दुब्लू की ढंड !

वो हैडा धार का औंला! वो चौगन पट का किन्गोड़ा!

पंधेरा कु ठण्डु पांणी वो नागडा गाड का हरा प्याज

वो महिपाल करों का माल्टा वो उमेश करों का आड़ू

वो जगती काका का बैंड! वो भुन्द्रू ब्वाडा का ढोल दमो!

वो पिरमि ( दीवाना ) का घ्वाडा वो बचू काका का बल्द !

वो बिज्जू दादा का बखरा वो शिशुपाल करों का मुर्गा !

वो शुखदेव करों कु कंटया ! वो अशोक करों कु बिज्व्वार!

वो महिपाल करों का ढांगा ! वो फते करों कु भैन्सू !

भैरू दादा कु च्ब्लाट ! आरती बो की हैंसी !

मल्ली ख्वाला की रामलीला तल्या खोला की गुच्छी

बीरू दादा की डैर घ्ग्गी काका की मार

धरामा कु गप्प्पू की हैंस गौमा कु नर्री कु शींप

वो मदनु  दादा कु बणयूँ  भात  गैन्णी ददी का हता का अर्षा  

वो उमेश करौं  कु प्रेस्सर  कुकर वो   पधान ब्वाडा कु रेडू

 वो बल्ली  चच्चा की टीबी वो भुप्पी करौं कु थर्मश

 वो बीरू दादा कु वाक़ मैन वो मददी कु नाच

वो पयां ढंडी की फाल वो मालू  डाला का झूला

 वो नेता की चक्की वो किन्द्रू का घट्ट

वो पिर्री करौं कु कुकर (कुत्ता, कबरा) वो चोसिंघ्या खाडू

वो मर्ख्वाल्या बल्द वो उज्यडिया गौडू  

copyright@ravindra gusain(paibar )

ą
garhwali negi ji Ravi gusain,
Jun 26, 2013, 5:01 AM
ą
garhwali negi ji Ravi gusain,
Jun 26, 2013, 9:55 PM
Comments