Ekatmata Stotra/मुख पृष्ठ

सुस्वागतम् ! एकात्मता स्त्रोतम् की वेब साइट पर आपका स्वागत है। इस वेब साइट का उद्देश्य एकात्मता स्त्रोतम् में दी गयी जानकारी को एकत्र करके अधिकतम भारतीयों तक पहुँचाना है। हमें आशा है कि हम इस अभियान में सफ़ल होंगे। आपके सुझाव सहृदय आमन्त्रित हैं [ekatmatastotra@gmail.com]

Welcome! This site is in Hindi and it was tested on Firefox. If you are not able to read properly then check your browser for support of Devnagari font.  In this case you may download pdf file [See below] which include all edited pages of this site. 


एकात्मता स्तोत्र को मूल संस्कृत रूप और उसके हिंदी व अंग्रेजी अनुवाद पढने के लिए यहाँ क्लिक करें [ॐ नमः सच्चिदानंदरूपाय...]


सम्पादित किये जा चुके पृष्ठों को पढने के लिए:

महेंद्र |  मलय  |  सह्याद्रि |  हिमालय |  रैवतक | विन्ध्याचल | अरावली | गंगा| सरस्वती| सिंधु| ब्रह्मपुत्र | गण्डकी | कावेरी | यमुना | रेवा | कृष्णा | गोदावरी | महानदी | अयोध्या | मथुरा | माया | काशी | कांची | अवन्तिका | वैशाली | द्वारिका | पुरी | तक्षशिला | गया | प्रयाग | पाटलिपुत्र | विजयनगर | इंद्रप्रस्थ | सोमनाथ | अमृतसर | वेद |  पुराण | उपनिषद | रामायण | महाभारत | गीता | दर्शन |  आगम | त्रिपिटक | गुरु ग्रंथ साहिब | अरुंधती | अनुसूया | सावित्री | जानकी | सती | द्रौपदी | कणणगी | गार्गी | मीरा | दुर्गावती | लक्ष्मीबाई | अहिल्याबाई | चेनम्मा | रुद्रमाम्बा | निवेदिता | शारदादेवी | राम | भरत | कृष्ण | भीष्म | युधिष्ठिर | अर्जुन | मार्कंडेय | हरिश्चंद्र | प्रहलाद | नारद | ध्रुव | हनुमान | जनक | व्यास | वशिष्ठ | शुकदेव | बलि | दधीचि | विश्वकर्मा | पृथु | वाल्मीकि | परशुराम | भगीरथ | एकलव्य | मनु | धन्वंतरि | रंतिदेव | बुद्ध | महावीर | गोरखनाथ | पाणिनी | पातंजलि | आदि शंकराचार्य | मध्वाचार्य | निम्बार्काचार्य | श्रीरामानुज | वल्लभाचार्य | झूलेलाल | चैतन्य | तिरुवल्लुवर | नयन्नार | अलवार  | कंबन | बसवेश्वर | देवल | रविदास| कबीर | नानक | नरसी महेता | तुलसीदास | गोविन्द सिंह | शंकरदेव | भाई सायण | माधवाचार्य | ज्ञानेश्वर | तुकाराम | रामदास | पुरंदरदास | बिरसा | सहजानंद | रामानंद | भरत मुनि | कालिदास | भोजराज | जकन | सूरदास | त्यागराज | रसखान | रवि वर्मा | भातखंड | भाग्यचन्द्र | अगस्त्य | कम्बु | कौण्डिन्य | राजेंद्र | अशोक | पुष्यमित्र | खारवेल | चाणक्य | चंद्रगुप्त | विक्रमादित्य | शालिवाहन | समुद्रगुप्त | हर्षवर्धन | शैलेंद्र | बप्पा रावल | भास्करवर्मा | यशोधर्म | कृष्णदेव राय | ललितादित्य |  मुसून अरि नायक | महाराणा प्रताप | शिवाजी | रणजीत सिंह | कपिल | कणाद | सुश्रुत | चरक | भास्कराचार्य | वाराहमिहिर | नागार्जुन | भारद्वाज | आर्य भट | जगदीश चन्द्र बसु | सी वी रमन | रामानुजन | रामकृष्ण | दयानंद | टैगोर | राम मोहन राय | रामतीर्थ | अरविंद | विवेकानंद | नैरोजी | गोपबंधु दास | तिलक | गांधी | महर्षि रमण | मालवीय | सुब्रह्मण्यम भारती | सुभाष | प्रणवानंद | सावरकर | ठक्कर बप्पा | अम्बेडकर | फुले | नारायण गुरु | हेडगेवार | गोलवलकर

एकात्मता स्तोत्र सुनने के लिए

आपके द्वारा जोड़ा गया गैजेट मान्य नहीं है

डाउनलोड/Download के लिए-> Right Click + Save Link As:                  

एकात्मता स्तोत्र/Ekatmata Stotra: mp3 | pdf
सभी सम्पादित पृष्ठ/All edited pages: pdf [uploaded on 12/4/10, Size 7.7 MB] (साईट विकास का कार्य प्रगति पर है। इस फाइल को नियमित समय के बाद बदल दिया जाता है। फाइल के प्रारूप में हुई गलतियों को अनदेखा कर दें लेकिन भीतर दी गयी सामग्री में गलतियों को बताने/सुधारने में हमारी मदद करें। कृपया अपने सुझाव ekatmatastotra@gmail.com पर भेजें।)

  • सम्पादित पृष्ठों की सूची: रामानुजाचार्य, नागार्जुन, रानी लक्ष्मीबाई, वेदव्यास, रामानुजन, चेनम्मा, गोरखनाथ, रसखान,सिन्धु, सोमनाथ,द्वारिका,रेवा/ नर्मदा, सरस्वती ,कृष्णा, यमुना, गंगा, कावेरी ,वराहमिहिर, सुश्रुत, महर्षि रमण, रविदास , मदन मोहन मालवीय,  बिरसा मुंडा, अरविंद, चाणक्य, डॉ केशव बलिराम हेडगेवार, तुलसीदास, गुरु नानक, गुरु गोविन्द सिंह, गुरु ग्रन ...
    26/12/2010, 11:44 am द्वारा एकात्मता स्तोत्र प्रेषित
1 के 1 - 1 पोस्ट प्रदर्शित हो रहे हैं. और देखें »

घोषणा: यह वेबसाइट जनसाधारण को एकात्मता स्तोत्र की जानकारी उपलब्ध कराने के उद्देश्य से तैयार की गई है। वेबसाइट पर उपलब्ध कराई गई जानकारी केवल संदर्भ के प्रयोजन से है और इसका अभिप्राय कोई कानूनी दस्तावेज नहीं है। हम इस वेबसाइट पर उपलब्ध कराई गई जानकारी, पाठ, ग्राफिक्स, लिंक अथवा अन्य सामग्रियों की यथार्थता या परिपूर्णता का कोई आश्वासन नहीं देते है। हमारा प्रयास है कि बौधिक सम्पदा के किसी अधिकार का उल्लंघन न हो लेकिन फिर भी यदि अज्ञानता वश ऐसा हो जाता है तो कृपया इसकी जानकारी हमें अवश्य दें।