Gratitude

जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला, उस-उस राही को धन्यवाद।

जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला, उस-उस राही को धन्यवाद।

जीवन अस्थिर अनजाने ही, हो जाता पथ पर मेल कहीं,
सीमित पग डग, लम्बी मंज़िल, तय कर लेना कुछ खेल नहीं।
दाएँ-बाएँ सुख-दुख चलते, सम्मुख चलता पथ का प्रसाद –
जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला, उस-उस राही को धन्यवाद।

by: Shivmangal Singh Suman

I quoted this poem here to those who have a concern and love about me.... I would be grateful to them till death!

:-)