योजना पत्रिका के लिए क्लिक करें


      अंक: November 2012


  निरंतरता - पूर्वोतर की बुद्धिमत्ता
संजीव काकोती
  आजकल जब पूर्वोतर...
  पूर्वोत्तर भारत का परिवहन ढांचा 
अरविंद कुमार सिंह
  भारत के पूर्वोत्तर ..
  सात बहनों का अतुलित वैभव
घनश्याम श्रीवास्तव
  पूर्वोत्तर की सात बहनों ...
  नगालैंड में उच्च शिक्षा - वर्तमान और भविष्य
वी. के कंवर
  सुपरिभाषित उददेश्यों...
  नगालैंड में कृषि विकास
अमृत पटेल
गोपाल कलकोटि
  ग्यारह जिलों से बना ..
संपादकीय
 
 

आर्थिक विकास किसी भी देश अथवा समाज की प्रगति और समृधि का परतीक माना जाता है । भारत स्वतंत्रता के बाद से ही तीव्र औघयोगीकरण , उदार आर्थिक नीतियों और नये कानूनों के माध्यम से , समूचे देश में समान आर्थिक विकास हेतु निरंतर प्रयासरत है । पंचवर्षीय योजनाओं के माध्यम से देश के संतुलित विकास के प्रयास निरंतर जारी हैं ।

 

आगे पढें ...

Yojana Archives 

 
निरंतरता - पूर्वोतर की बुद्धिमत्ता
संजीव काकोती

आजकल जब पूर्वोतर के बारे में चर्चा होती है तो आमतौर पर इस क्षेत्र को पिछड़ा और अविकसित बताया जाता है । ये बात सच भी हो सकती है बशर्ते कि मूल्यांकन का आधार विकास के उन मापदंडों को बनाया जाए जो आजकल अपनाये जा रहे हैं । लेकिन अगर चर्चा का दायरा ब्दाहाकर इसमें प्रसन्नता के संसूचक और जीवन की गुणवत्ता जैसी अव्धारानो को शामिल कर लिया जाए तो समीकरण बदल सकते हैं । उदहारण के लिए भूटान के विकास मूल्यांकन में वहां के प्रसन्नता संसूचकों को शामिल किया गया तो परिणाम में बड़ा परिवर्तन आ गया ।

आगे पढें ...
 

Regional Languages
Hindi
English
Assamese
Bengali
Gujarati
Kannada
Malayalam
Marathi
Oriya
Punjabi
Tamil
Telugu
Urdu


खबरें और झलकियाँ
All archival issues of Yojana (Hindi and English) now available on-line.

नियमित लेख


झरोखा जम्मू कश्मीर का : कश्मीर में रोमांचकारी पर्यटन
जम्मू-कश्मीर विविधताओं और बहुलताओं का  घर है| फुर्सत के पल गुजारने के अनेक तरकीबें यहाँ हर आयु वर्ग के लोगों के लिए बेशुमार है| इसलिए अगर आप ऐडवेंचर टूरिस्म या स्पोर्ट अथवा रोमांचकारी पर्यटन में रूचि रखते हैं तो जम्मू-कश्मीर के हर इलाके में आपके लिए कुछ न कुछ है.
  Ministry of I&B
Publications Division
Employment News
 
Copyright © 2008 All rights reserved with Yojana Home  |  Disclaimer  |  Contact 

This site is best viewed using a screen resolution of 1024 x768

Last updated: Wednesday, July 01, 2009
 
Comments