Prominent poetry‎ > ‎

Dono jahaan teri mohabbat (हिंदी)

dono jahaa.N terii mohabbat me.n haar ke
wo jaa rahaa hai koii shab-e-Gam guzaar ke
 
दोनो जहान तेरी मोहब्बत में हार के
 
वो जा रहा है कोई शब-ए-गम गुज़ार के
 
viiraa.N hai maikadaa Khum-o-saaGar udaas hai
tum kyaa gaye ke ruuTh gaye din bahaar ke
 
वीरां है मयकदा खुम-ओ-सागर उदास है
 
तुम क्या गये कि रूठ गये दिन बहार के
 
ik fursat-e-gunaah milii, wo bhii chaar din
dekhe hai.n ham ne hausale parvar-digaar ke
 
इक फुर्सत-ए-गुनाह मिली, वो भी चार दिन
 
देखे हैं हमने हौसले परवर दिगार के
 

duniyaa ne terii yaad se begaanaa kar diyaa
tujh se bhii dil fareb hai.n Gam rozagaar ke

दुनिया ने तेरी याद से बेगाना कर दिया

तुझ से भी दिल फ़रेब हैं गम रोज़गार के

bhuule se muskuraa to diye the wo aaj 'Faiz'
mat puuchh val-vale dil-e-naa-kardaakaar ke
 
भूले से मुस्करा तो दिये थे वो आज फ़ैज़
 
मत पूछ वल-वले दिले-ए-ना-करदाकार के
 
Comments