Faiz Ahmed Faiz

B. February 13 1911 d. November 20 1984
 

फ़ैज़ साहब की जन्म शताब्दी पर उन्ही के कुछ कलाम उन्ही के नाम पेश करने की एक नामाकूल सी कोशिश उनके तमाम चाहने वालों के लिये यहां कर रहा हूं । अपने मकसद में कामयाब होने की उनसे दुआ मांगता हूं ।

अभय शर्मा - मुंबई

जनाब फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ साहब का नाम उर्दू जबान के उन चुनिंदा नामी गिरामी शायरों में लिया जाता है जिनके कलाम आज भी उतने ही पसंद किये जाते है जितने उनके अपने ज़माने में किये जाते रहे होंगें  ।

उर्दू के जाने माने शायर फ़ैज़ साहब भारत में भी उतने ही मशहूर है जितने कि वे अपने मुल्क पाकिस्तान में ।

अविभाजित पंजाब के स्यालकोट स्थित कला कादर कस्बे में जनाब फ़ैज़ साहब का जन्म 13  फरवरी  1911 के रोज़ हुआ इस तरह इस साल उनकी पैदाइश की 100वीं सालगिरह मुकर्रर होती है ।

13 फरवरी 1911 को अविभाजित पजाब के स्यालकोट स्थित कला कादर कस्बे में  फ़ैज़ साहब की पैदाईश एक पढे लिखे घराने में हुई । वे खुद भी पढाई-लिखाई के मामले में हमेशा ही आगे रहे है । फ़ैज़ साहब ने अंग्रेजी सहित्य के साथ साथ अरबी भाषा में भी एम ए की डिग्री हासिल की ।

जैसा कि उन दिनों रिवाज़ था उन्होने उर्दू की शुरुआती तालीम मौलवी मुहम्मद इन्राहिम मीर स्यालकॊटी से मस्जिद में जाकर हासिल की थी । उसके बाद पहले स्यालकोट के स्काच मिशन स्कूल और उसके बाद वहीं के मरे कालेज में अपनी आगे की तालीम हासिल कि । उर्दू के प्रोफ़ेसर युसुफ़ सलीम चिश्ती साहब तथा अरबी के प्रोफ़ेसर सैयद मीर हसन साहब उनके पसंदीदा टीचर थे । जनाब हसन सहब ने जाने माने शायर फिलास्फर अल्लामा मुहम्मद इकबाल साहब को भी पढाया हुआ था । फ़ैज़ साहब ने गवर्नमेंट कालेज लाहौर  से अंग्रेजी साहित्य में मास्टर आफ़ आर्टस (एम ए) की डिग्री हासिल की । इसके साथ ही उन्होने लाहौर के ही ओरियेंटल कालेज से अरबी साहित्य में भी मास्टर की डिग्री हासिल की। फ़ैज़ साहब के  आल इंडिया प्रोग्रैसिव राईटर्स मूवमेंट के साथ गहरे ताल्लुकात थे । वे मार्क्सवादी विचारधरा के बेहद करीब थे, सन 1962 में सोवियत रूस द्वारा लेनिन पुरस्कार से भी वे नवाज़े गये ।  

सन 1936 में फ़ैज़ सहब ने पंजाब में प्रोग्रैसिव राईटर्स की एक ब्रांच खोली जिसके सदस्य होने के साथ साथ वे इसके सेक्रेटरी भी थे ।  वे इस दौरान महनामा (मासिक) पत्रिका के ऎडिटर भी रहे । उन्होने 1935 में अमृतसर के एम ए ओ कालेज  मे अध्यापन कार्य भी किया उसके बाद वे लाहौर के हेली कालेज में पढाने चले गये । कुछ दिनों के लिये फ़ैज़ साहब ब्रिटिश आर्मी से भी जुड़े सन जहां 1944 में वे लेफ्टिनॆंट कर्नल बन गये थे । सन   1947  में उन्होने आर्मी छोड़ दी पाकिस्तान टाइम्स के प्रथम प्रमुख संपादक  बने । सन  1959 में उनकी नियुक्ति पकिस्तान आर्टस काउंसिल के सेक्रेटरी के रूप में हुई जहां सन 1962 तक उन्होने काम किया ।


Janab Faiz Ahmed Faiz Sahib - a renowned Urdu poet  rather A shayar to be more precise.. is as famous in India as in his adopted country Pakistan..

Faiz Ahmed Faiz was born on Febraury 13 1911 in Sialkot (pre-partition Punjab).  An eminent writer of his times Faiz has written wonderful Urdu poetry..

The year 2011 marks the birth centenary of the modern Urdu writer of our times.. it seems he did not want to speak much of himself.. yet we can always speak much of him..

It is with the simple intention that the world knows a little more about the great poet that I have underatken this research project.. if it could bring some of his followers from either side of the world together it would be a rich tribute to his work..

My intention here is to aggreegate some of these links and present them to the world of the lovers of  the Urdu poetry.. and specifically the lovers of Faiz's poetry..

I thank a friend from Lahore Syed Nayyar Uddin Ahmad Sahab for sending a link to Faiz's Hum Dekhenge by Iqbal Bano.. that initaited me into this project...


 


Salima Hashmi - Faiz is beyond India-Pakistan politics: Daughter

At the outset I must make it clear that a rich source of information about Faiz Ahmed Faiz sahab -

The Official Faiz Foundation  Website 

Some other important resources include -

The South Asian Literary Recordings Project 

English translations of some of his works 

Faiz Ahmed Faiz - Wikipedia 

Urdu poetry of Faiz Ahmed Faiz 

I agree the ones who are interested in knowing more about Faiz Ahmed Faiz Sahab could always find it out for themselves.. yet I did want to get intiated into this compilation as I also know everyone in the world does not necessarily always have the time available to search and pursue their interests..  

on February 13 2011. Kal subah Faiz Hmed Faiz Sahab ki birth centenary ki subah hogi. Ummeed karata hoon ki voh subah gulon mei naye rang bharti hui aaye.. Janaab Faiz Ahmed Faiz ki family ko is mukammal mauke par meri taraf se bahut bahut badhaaiyan.. Faiz sahab ka Zindan Nama unke Kalam mei aaj bhi Zinda hai.. meri website par kai ek jaane mane ghazal, nazm gayakon ke saath saath janaab Faiz Ahmed Faiz sahib ke kuchh ek kalaam unhi ki awaaz mein bhi dhoond nikale hain.. yahan upar unki birth centenary par click karke aap hazraat unse mil sakate hain.. ve aaj bhi hamaare beech zinda hain.. aur sadiyon tak zinda rahenge.. Janaab Mehdi Hassan sahab, Noor Jahan, Iqbal Bano, Habib Wali Mohammad, Ustad Amanat Ali, Ustad Barkat Ali Khan, Nusrat Fateh Ali Khan Sahab, Begum Akhtar and Naseeruddin Shah (Firaq) have contributed to several links on youtube that have been compiled.. I thank urdopoetry.com for several pieces of his prominent poetry.. my contribution to it is in typing some of it in Hindi.. I could be wrong at times.. please bear with me.. urdu mein khaaskar roman urdu mei mera haath kuchh tang zaroor hai.. un sabhi logon ka shukriya ada karana chahunga jinaki badaulat yeh website is shakal mein aa saki hai ki Faiz Ahmed Faiz sahab ke chahane vaale ek site par unke tamaam kalaam padha saken sun saken..

 
Dono Jahaan Teri Mohabbat mei Haar ke by Mehdi Hassan is my favourite.. especially the link given by Dr. Bukhari.. the audio quality is pretty good.. Another favourite is Naseerudin Shah's rendition of  Faiz Sahab in Firaq.. I thank Salima Hashmi for his views that Faiz sahib is above India Pakistan Politics.. true very true..
 
I would also like to thank Late Alok da.. who was very keen Ghazal lover and I heard of Faiz Ahmed Faiz from him... he might have been initiated into it by Shachindra and Mahendra Sharma - the duo who was almost in love with urdu poetry.. shayari to be precise..